यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, 19 जून 2017

हार और जीत .... पटाखे


कल हम पाकिस्तान से

क्रिकेट मैच बुरी तरह  हार गए।

मीडिया ने भावनाओं  का  जो गुब्बारा फुलाया था

तेज़ आवाज़ के साथ फुस्स हो गया।


मेरे पड़ोस में

एक क्रिकेट का दीवाना

भारत -पाक चैम्पियंस ट्रॉफी में

भारत की हार

और

पाकिस्तान की जीत पर
 
पटाखों से जश्न मना रहा था

माँ  ने आवाज़ दी -

बेटा  अपने देश की क्रिकेट टीम की हार पर

इतना खुश क्यों हो रहा है ?

बेटे ने कहा -

पटाखे ख़ुशी को दूर -दूर तक पहुँचाते हैं

क्रिकेट में तीन सौ अड़तीस

 रन  के बजाय एक सौ अट्ठावन  ही बने

हारने का तो ग़म है

लेकिन

आज हमारी हॉकी टीम ने

एक के मुकाबले सात गोलों   से

 पाकिस्तान को रौंद डाला है .......

बेटे के तर्क से माँ को ख़ुशी हुई .....

 अब बस कर बेटा मैं तो समझ गई भीड़ को क्या

समझाएगा ?

@हर्ष वर्धन सिंह