यह ब्लॉग खोजें

शनिवार, 10 जून 2017

किसान आंदोलन

किसान तुम गोली खाओ..... परिवार को  1  करोड़ और नौकरी दिलाओ 



देशभर  में  आज  किसानों  का  मुद्दा  गर्म है।

किसानों  की उग्रता देख  सरकार हुई  नर्म है।


म. प्र . पुलिस ने  किसानों को  गोली  मार दी

संख्या की पुष्टि छोड़ो मंत्री ने शर्म ही उतार दी

पहले  कहा  हमारी  पुलिस ने गोली नहीं मारी

तीन  दिन  बाद  कहा  हमने  ही    गोली मारी

बंटे हुए माहौल में किसान- चर्चा बहुत  गर्म है

किसानों  की उग्रता देख  सरकार  हुई   नर्म है।



किसानों पर बंटा  हुआ है देश

कोई पूंजीपतियों के साथ

तो कोई  मेहनतकश किसानों के साथ

किसान अपना हक़ मांग रहे हैं

खैरात  नहीं   मांग      रहे     हैं

किसानों की ज़मीन हड़पने का

सोचा -समझा  षड्यंत्र है - फसल का उचित दाम न देना

ताकि किसान खेती छोड़कर मज़दूरी करे।

इस षड्यंत्र में शामिल हैं सरकार और उद्योगपति।

जिनसे  वोट लेकर गद्दी पाई

उन्हीं पर  गोलियां   बरसाईं

किसान के मरने पर

1 करोड़ मुआवज़ा और नौकरी

सम्बन्धी  को...

जीते  जी  दुत्कार

मरने पर पुचकार ....

किसान का माल  औने -पौने  दाम

धन कुबेरों  का ऊँचे  से  ऊंचे  दाम

किसान  का टमाटर  सड़क पर

धनकुबेर का  शोरूम में..... 

कोई करेगा  किसान के साथ न्याय...???

-हर्ष वर्धन सिंह 


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें